Wednesday, March 25, 2020

अमेरिका सहित कई देशों का वैज्ञानिक शोध, कोविद -19 चीन का जैविक हथियार नहीं है, बल्कि एक प्राकृतिक वायरस है

By
एक ओर, कोविद -19 की उत्पत्ति के संबंध में चीन को सवालों के घेरे में खड़ा करने की कोशिश की जा रही है और इसे चीन का जैविक हथियार बताया जा रहा है, जबकि अमेरिका सहित कई देशों की मदद से एक वैज्ञानिक शोध ने यह दावा किया है वायरस स्वाभाविक है।
अमेरिका सहित कई देशों का वैज्ञानिक शोध, कोविद -19 चीन का जैविक हथियार नहीं है, बल्कि एक प्राकृतिक वायरस है

स्क्रिप्स रिसर्च इंस्टीट्यूट का शोध नेचर मेडिसिन जर्नल के नवीनतम अंक में प्रकाशित हुआ है। इस शोध को अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ, ब्रिटेन के वेलकम ट्रस्ट, यूरोपियन रिसर्च काउंसिल और ऑस्ट्रेलियन लॉरेट काउंसिल द्वारा वित्त पोषित किया गया है और आधा दर्जन संस्थानों के विशेषज्ञ शामिल हुए हैं।

कोविद -19 चीन का जैविक हथियार नहीं है, बल्कि एक प्राकृतिक वायरस है

चीन ने जीनोम का अनुक्रम किया
शोध पत्र के अनुसार, चीन ने अपनी पहचान के तुरंत बाद कोविद -19 का अनुक्रम किया था और डेटा को सार्वजनिक कर दिया था। कोविद -19 के जीनोम के वैज्ञानिकों ने इसके विकास और विकास पर शोध किया। वैज्ञानिकों ने वायरस की संरचना का गहराई से अध्ययन किया है। इसमें पाए जाने वाले स्पाइक प्रोटीन के आनुवंशिक टेम्प्लेट का विश्लेषण किया। इसके भीतर रिसेप्टर बाइंडिंग डोमेन (RBD) की संरचना का भी अध्ययन किया। आरबीडी वायरस का वह हिस्सा है जो मानव कोशिका से चिपक जाता है। यह जीन ACE-2 को नियंत्रित करने वाले रक्तचाप पर हमला करता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि स्पाइक प्रोटीन और आरबीडी की संरचना यह स्पष्ट करती है कि यह जेनेटिक इंजीनियरिंग द्वारा नहीं बनाया गया है बल्कि प्राकृतिक परिवर्तनों का परिणाम है।

शोध के अनुसार, वायरस की रीढ़ की संरचना भी इसकी प्राकृतिक उत्पत्ति की पुष्टि करती है। कोविद -19 की रीढ़ संरचना कोरोना या किसी अन्य वायरस की मौजूदा रीढ़ की उपस्थिति से मेल नहीं खाती है। बल्कि यह नया है। अगर कोई वायरस जेनेटिक इंजीनियरिंग द्वारा लैब में तैयार किया जाता है, तो उसकी रीढ़ मौजूदा वायरस से बनती है।

स्क्रिप्स इंस्टीट्यूट में एसोसिएट प्रोफेसर क्रिस्टीन एंडरसन ने कहा कि उपरोक्त दो कारण यह साबित करने के लिए पर्याप्त हैं कि कोविद -19 प्रयोगशाला में नहीं बना है, लेकिन वर्षों में स्वाभाविक रूप से विकसित हुआ है।

आप कहाँ से आये हैं?
इस शोध में वैज्ञानिकों ने यह जानने की कोशिश की कि यह इंसानों तक कैसे पहुंचा। इस पर दो तर्क हैं। एक यह है कि पुराना कोरोना वायरस जानवरों में और फिर इंसानों में बदल गया। दूसरा विचार यह है कि यह नया वायरस है और चमगादड़ से दूसरे और वहाँ से मनुष्यों में चला गया। वैज्ञानिकों ने चमगादड़ों के सीधे इंसानों में आने की संभावना से असहमति जताई है।

0 comments:

Post a Comment