Sunday, March 22, 2020

कोरोना वायरस: work from home, इफ़ेक्ट्स इंटरनेट, स्लो स्पीड

By
work from home (घर से काम) के कारण इंटरनेट की गति धीमी होने से आने वाले दिनों में वीडियो एप्लिकेशन की गुणवत्ता कम हो सकती है। सेलुलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने दूरसंचार विभाग को पत्र लिखा है और वीडियो सेवाओं की पेशकश करने वाली कंपनियों को दूरसंचार बुनियादी ढांचे पर दबाव कम करने की मांग की है।
कोरोना वायरस work from home, इफ़ेक्ट्स इंटरनेट, स्लो स्पीड

देश के कई शहरों में, सभी कर्मचारी लॉकडाउन और कार्यालय बंद होने के कारण घर से काम कर रहे हैं। ऐसे में घर पर इस्तेमाल होने वाले इंटरनेट पर भी दबाव बढ़ रहा है। यूरोप में, नेटफ्लिक्स और यूट्यूब जैसी कंपनियों ने पहले ही वर्क फ्रॉम होम की वजह से वीडियो की गुणवत्ता को कम करने की घोषणा की है। इंटरनेट पर बढ़ते दबाव के कारण, देश में मनोरंजन से संबंधित अनुप्रयोगों की गुणवत्ता को कम किया जा सकता है ताकि दबाव को कम किया जा सके।

कोरोना वायरस का देश में कहर इंटरनेट, स्लो स्पीड

शुरुआती आंकड़ों के अनुसार, फोन कॉल करने पर अब देश में कोई समस्या नहीं है, लेकिन इंटरनेट की गति दिन में कई बार के बराबर पाई जाती है। हिंदुस्तान को मिली जानकारी के अनुसार, सेल्युलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया (COAI) ने दूरसंचार विभाग को एक पत्र भी लिखा है कि वीडियो सेवा प्रदान करने वाली कंपनियों के लिए एहतियात के तौर पर इस तरह के उपाय करने के निर्देश दिए जाएं, ताकि स्थिति यह न हो देश में प्रबल। उसे दूषित करो।
कोरोना वायरस work from home, इफ़ेक्ट्स इंटरनेट, स्लो स्पीड

सीओएआई के महानिदेशक राजन मैथ्यूज ने कहा कि उन्होंने दूरसंचार विभाग को इस बारे में अवगत कराया है और कार्रवाई की मांग की है। सीओएआई द्वारा लिखे गए पत्र में, अमेज़ॅन प्राइम, यूट्यूब, हॉट स्टार, जी 5 और ऑल्ट बालाजी सहित 12 वीडियो सेवा कंपनियों को दूरसंचार बुनियादी ढांचे पर दबाव को कम करने के लिए व्यवस्था करने के लिए कहा गया है। विशेषज्ञों की राय में, घर से काम करने के कारण, देश में इंटरनेट पर दबाव बढ़ रहा है। अगर सरकार और कंपनियां आने वाले दिनों में कोई कदम नहीं उठाती हैं, तो स्थिति नियंत्रण से बाहर हो जाएगी।

0 comments:

Post a Comment