Monday, April 20, 2020

शोएब अख्तर ने कहा- 10-11 साल पहले गेंद को लार से नहीं उछालने की सलाह दी

By
क्रिकेट में गेंदबाजों द्वारा गेंद पर लार का इस्तेमाल करना आम बात है, लेकिन उन्हें कोरोना वायरस की महामारी के बाद गेंद को चमकाने के इस तरीके पर पुनर्विचार करना पड़ सकता है। ऐसे में लोगों का मानना ​​है कि खेल में गेंदबाजों की समस्या जो पहले से ही बल्लेबाजों के अनुकूल है, आगे भी बढ़ सकती है। ऐसे में पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर का कहना है कि उन्होंने 10-11 साल पहले ही बॉल पर लार का मुद्दा उठाया था, लेकिन तब सभी ने उनका मजाक बनाया।

शोएब अख्तर, जिन्हें 'रावलपिंडी एक्सप्रेस' के नाम से जाना जाता है, ने कहा, "मुझे नहीं लगता कि गेंदबाज़ क्रिकेट मैचों के दौरान गेंद को चमकाने के लिए लार का इस्तेमाल करेंगे।" गेंद मैदान में हर किसी के हाथों से गुजरती है। ऐसी स्थिति में गेंदबाजों को लार को गेंद पर लगाने पर रोक होगी। ’’ उन्होंने कहा कि मैंने आईसीसी की एक रिपोर्ट देखी जिसमें कहा गया था कि अब गेंदबाज लार की मदद से चमक नहीं पाएंगे।
शोएब अख्तर ने कहा- 10-11 साल पहले गेंद को लार से नहीं उछालने की सलाह दी

उन्होंने कहा, "क्रिकेट एक ऐसा खेल है जिसमें कनेक्टिविटी की आवश्यकता होती है। अगर आईसीसी गेंद पर लार से संबंधित कानून पारित करने के बारे में सोच रहा है, तो मैं कोरोनो वायरस को ध्यान में रखते हुए निर्णय का स्वागत करता हूं। ''

अख्तर ने कहा, "मैंने पहले आईसीसी को सलाह दी थी कि गेंद को लार के साथ न चलायें, क्योंकि गेंद कई हाथों में जाती है।" ऐसी स्थिति में खिलाड़ियों की लार एक-दूसरे के हाथों और मुंह में चली जाती है। "उन्होंने कहा कि मैंने बर्ड फ्लू के समय यह सुझाव दिया था, लेकिन तब सभी ने मेरा मजाक उड़ाया था।

इसके साथ ही शोएब अख्तर ने सलाइवा के साथ गेंद को चमकाने के लिए एक और विकल्प का इस्तेमाल करने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि गेंदबाज के पास कुछ और तरल पदार्थ होना चाहिए ताकि वह गेंद को चमका सके। उन्होंने गेंद पर पसीने के इस्तेमाल पर भी सवाल उठाया। अंत में शोएब अख्तर ने प्रशंसकों से सुझाव मांगे और कहा कि आप मुझे बताएं, अब इस मुद्दे पर क्या किया जाना चाहिए।

0 comments:

Post a Comment